Tag Archives: whitefly control

WhatsApp Image at PM

कपास को सफेद मक्खी से बचाने के लिए सुमिटोमो केमिकल का लेनो है एक अचूक दवा

कपास पर इन दिनों सफेद मक्खी का प्रकोप हो गया है। इससे किसान परेशान व भयभीत हैं। उनका कहना है कि सफेद मक्खी अगर यूँ ही बढ़ती रही तो उनकी सारी फसल तबाह हो जाएगी। वहीं कृषि वैज्ञानिक किसानों को सफेद मक्खी के प्रकोप से बचने के उपाय बता रहे हैं। उनका कहना है कि जहाँ सफेद मक्खी का प्रकोप है किसानों को घबराने की जरूरत नही है वे दवाई का प्रयोग करके अपने फसल बचा सकते हैं।

Continue reading

image safes makkhi ce l ll

कपास की फसल में सफेद मक्खी के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

कपास विश्व और भारत की एक बहुत ही महत्तवपूर्ण रेशे वाली और व्यापारिक फसल है। यह देश के उदयोगिक और खेतीबाड़ी क्षेत्रों के वित्तीय विकास में बहुत ही महत्तवपूर्ण स्थान रखती है। कपास कपड़ा उदयोग को प्रारंभिक कच्चा माल उपलब्ध करवाने वाली मुख्य फसल है। कपास भारत के 60 लाख किसानों को रोज़ी-रोटी उपलब्ध करवाती है और कपास के व्यापार से लगभग 40-50 लाख लोगों को रोज़गार मिलता है। कपास की फसल को पानी की ज्यादा जरूरत नहीं होती और पानी का लगभग 6 प्रतिशत हिस्सा कपास की सिंचाई करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

Continue reading

inner body2 2

कपास में समेकित नाशीजीव प्रबंधन

कपास भारत की प्रमुख फसलों में से एक है जो देश के आर्थिक विकास महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कपास की उच्च उपज वाली किस्मों के विकास, प्रौद्योगिकी के उपयुक्त हस्तांतरण, बेहतर कृषि प्रबंधन प्रथाओं को अपनाने एवं संकर बीटी कपास की खेती के तहत बढ़े हुए क्षेत्र के माध्यम से भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा कपास उत्पादक बन गया है। कपास को हानि पहुँचाने वाले कीटों की विभिन्न प्रजातियों में कुल 12 कीट आर्थिक क्षति की दृष्टि प्रमुख माने जाते हैं। कपास की फसल को सबसे अधिक क्षति रस चूसने एवं डोडी या टिंडे भेदने वाली कीटों से होती है।

Continue reading

green cotton field camera shot 94002624

कपास की फसल में दिखा सफेद मक्खी का प्रकोप जानिए कैसे करें कंट्रोल

कपास की फसल में सफेद मक्खी का प्रकोप दिखाई देने लगा है। इसके बाद से कृषि विभाग ने इसे रोकने के लिए प्रयास शुरू कर दिया है। इससे निबटने के लिए किसानों को दवाओं के छिड़काव की सलाह दी जा रही है। अगर मक्खी का प्रकोप और बढ़ता है तो कपास की फसल कुछ ही दिनों में नष्ट हो जाएगी।

Continue reading

cotton article

कपास की फसल में रस चूसने वाले कीड़ों का विवरण एवं प्रबंधन

कपास एक प्रमुख नकदी फसल है। यह खरीफ मौसम में उगाई जाने वाली फसल है। हरियाणा में कपास की औसत पैदावार 4-5 क्विटंल प्रति एकड़ है परन्तु कई प्रगतिशील किसान उन्नत कृषि क्रियाएं अपनाकर 10-12 क्विंटल प्रति एकड़ तक पैदावार लेने में सफल हुए हैं। पिछले कुछ वर्षों से कपास की उत्पादकता घटी है, जिसमें कीटों की अहम भूमिका रही है। कीटों के प्रकोप के कारण पैदावार में 60-70 प्रतिशत तक कमी आ जाती है तथा इसके साथ ही उपज की गुणवत्ता पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। कपास को हानि पहुँचाने वाले कीटों में रस चूसने वालें कीट भी शामिल हैं। इन कीटों में सफेद मक्खी, हरा तेला, चेपा, मीली बग प्रमुख हैं जिनके प्रकोप के कारण 20-30 प्रतिशत पैदावार कम हो जाती है। इन कीटों का विवरण एवं प्रबंधन इस प्रकार है:-

Continue reading

Scientists ready for field 1

कपास की फसल में सफेद मक्खी से निपटने के लिए क्या करें किसान भाई

किसान भाइयों जैसा कि आप देख रहे होंगे की बारिश के बाद तापमान लगातार बढ़ा हुआ है। यह मौसम सफेद-मक्खी के लिए बहुत अनुकूल है हमारी कपास (या नरमा) अब सफेद-मक्खी के प्रभाव में आ सकती है।

कपास की सफेद मक्खी के बारे में : सफ़ेद मक्खी को अंग्रेजी में वाइट फ्लाई (White Fly In Cotton) के नाम से जाना जाता है। सफेद मक्खी छोटा सा तेज उडऩे वाला पीले शरीर और सफेद पंख का कीड़ा है। छोटा एवं हल्के होने के कारण ये कीट हवा द्वारा एक से दूसरे स्थान तक आसानी से चले जाते हैं।

Continue reading

cotton farming frist image

कपास की खेती करने का आधुनिक तरीका, यहां पढ़िए पूरी जानकारी

कपास की खेती नगदी फसल के रूप में होती है. इसकी खेती से किसानों को अच्छा मुनाफा मिलता है. इसकी खेती भारत के कई राज्यों में की जाती है. बाजार में कपास की कई प्रजातियाँ आती हैं, जिनसे ज्यादा पैदावार मिलती है. सबसे ज्यादा लम्बे रेशों वाली कपास को अच्छा माना जाता है.

Continue reading

BL01COTTON BT

कपास की खेती कैसे करें, पढ़िए उन्नत किस्में, जलवायु तथा उपज के बारे में…

कपास की खेती भारत की सबसे महत्वपूर्ण रेशा और नगदी फसल में से एक है. और देश की औदधोगिक व कृषि अर्थव्यवस्था में एक प्रमुख भूमिका निभाता है. कपास की खेती लगभग पुरे विश्व में उगाई जाती है. यह कपास की खेती वस्त्र उद्धोग को बुनियादी कच्चा माल प्रदान करता है. भारत में कपास की खेती लगभग 6 मिलियन किसानों को प्रत्यक्ष तौर पर आजीविका प्रदान करता है और 40 से 50 लाख लोग इसके व्यापार या प्रसंस्करण में कार्यरत है.

Continue reading

download

कपास की फसल में रोग एवं उपचार

कपास की फसल पर लगने वाले रसचूसक कीटों में सफेद मच्छर/मक्खी सबसे ज्यादा हानिकारक है। दस कीट के बच्चे व व्यस्क कपास के पत्तों के निचले हिस्से से लगातार रस चूसते रहते हैं और शहदनूमा चिपचिपा पदार्थ छोड़ते रहते हैं।

Continue reading